\u092e\u094b\u0926\u0940 \u0938\u0930\u0915\u093e\u0930 \u0915\u0947 \u0932\u093f\u090f \u0905\u091a\u094d\u091b\u0940 \u0916\u092c\u0930, ‘\u0928\u094b\u091f\u092c\u0902\u0926\u0940 \u0938\u0947 \u0928\u093f\u0915\u0932\u093e \u092d\u093e\u0930\u0924, \u0935\u0943\u0926\u094d\u0927\u093f \u0926\u0930 \u0907\u0938 \u0938\u093e\u0932 7.3% \u0930\u0939\u0947\u0917\u0940’

6
7.3% growth for India this year, Recovered From Effects of Demonetisation GST: World Bank । मोदी सरकार के लिए अच्छी खबर, ‘नोटबंदी से निकला भारत, वृद्धि दर इस साल 7.3% रहेगी’

विश्व बैंक का अनुमान है कि इस साल भारत की आर्थिक वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रहेगी और 2019 तथा 2020 में यह बढ़कर 7.5 प्रतिशत पर पहुंच जाएगा.

खास बातें

    t

  1. इस साल भारत की आर्थिक वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रहेगी.
  2. t

  3. 2019 तथा 2020 में यह बढ़कर 7.5 प्रतिशत पर पहुंच जाएगा.
  4. t

  5. नोटबंदी और जीएसटी के असर से बाहर निकला भारत.

वॉशिंगटन: विश्व बैंक का अनुमान है कि इस साल भारत की आर्थिक वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रहेगी और 2019 तथा 2020 में यह बढ़कर 7.5 प्रतिशत पर पहुंच जाएगा. विश्व बैंक ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था नोटबंदी और माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के प्रभावों से निकल चुकी है. विश्व बैंक की 16 अप्रैल को जारी साल में दो बार आने वाली दक्षिण एशिया आर्थिक केंद्र रिपोर्ट में कहा, ”2018 में वृद्धि दर के 2017 के 6.7 प्रतिशत से बढ़कर 7.3 प्रतिशत पर पहुंच जाने का अनुमान है.”

थोक महंगाई दर मामूली घटकर 2.47 फीसदी
वहीं दूसरी ओर देश के थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित मुद्रास्फीति की दर में मार्च में मामूली गिरावट दर्ज की गई है और यह 2.47 फीसदी रही, जो इसके पिछले महीने में 2.48 फीसदी थी. वाणिज्य मंत्रालय की तरफ से सोमवार (16 अप्रैल) को जारी आंकड़े के मुताबिक, डब्ल्यूपीआई महंगाई दर साल 2017 के मार्च में 5.11 फीसदी रही थी, जो वर्तमान दर के मुकाबले दोगुनी है. मंत्रालय ने रपट में कहा है, “मासिक डब्ल्यूपीआई के आधार पर सालाना मुद्रास्फीति दर 2018 के मार्च में 2.47 फीसदी रही, जबकि पिछले महीने यह 2.48 फीसदी रही थी. पिछले साल के समान महीने में यह 5.11 फीसदी रही थी.”

रपट में कहा गया है, “मासिक डब्ल्यूपीआई पर आधारित मुद्रास्फीति की वार्षिक दर 2018 के मार्च में 2.47 फीसदी (अनंतिम) थी, जो पिछले महीने में 2.48 फीसदी (अनंतिम) थी और पिछले साल की समान अवधि में 5.11 फीसदी थी.” बयान में कहा गया है, “अंतर्निहित मुद्रास्फीति चालू वित्त वर्ष में अब तक 2.47 फीसदी है, जबकि पिछले साल की समान अवधि में यह 5.11 फीसदी थी.”

(इनपुट एजेंसी से भी)